मुचुअल फंड का 15-15-15 का नियम. कम्पाउंडिंग का मज़ा

“चक्रवृद्धि ब्याज दुनिया का आठवा अजूबा है.जो इसे समझता है वो इसे कमाता है और जो नहीं समझता वो चुकाता है “-अल्बर्ट आइंस्टीन

कोम्पौन्डिंग की शक्ति

अल्बर्ट आइंस्टीन ने सही कहा है की चक्रवृद्धि ब्याज दुनिया का आठवा अजूबा है. कम्पाउंडिंग एक बहुत ही शक्तिशाली अवधारणा है.ऐसा इसलिए की आपकी निवेशित राशि के ब्याज पर भी आपको ब्याज मिलता है.निवेशित राशी का मूल्य अंकगणितीय दर (सीधी रेखा) की तुलना में ज्यामितीय दर (हमेशा बढ़ता रहता है) से बढ़ता है.आपका पैसा समय बढ़ता जाता है.इसके अलावा, कंपाउंडिंग एक दीर्घकालिक अवधारणा है.और यहाँ दीर्घकाल से मेरा मतलब 15-30 वर्ष है.जल्दी निवेश के साथ ही सुझबुझ से निवेश करना भी आवश्यक है.एक छोटी राशि आपकी आय तेजी से बढ़ा सकती है.आइए देखें किस तरह 15000 का निवेश आपको 10 करोड़ दे सकता है.

15*15*15 नियम

15 साल के लिए 15% की अनुमानित सीएजीआर पर 15,000 की SIPआपको परिपक्वता पर 1 करोड़ रुपये का रिटर्न दे सकती है.15 वर्ष में 27 लाख का निवेश आपको 1 करोड़ रूपए दे सकता है.

पर यहाँ 15*15*30 का नियम भी है जिसके बारे में आपको पता होना चाहिए.

15*15*30 नियम

30 साल के लिए 15% की अनुमानित सीएजीआर पर 15,000 की SIP आपको परिपक्वता पर 1 करोड़ रुपये का रिटर्न दे सकती है.15 वर्ष में 27 लाख का निवेश आपको 10 करोड़ रूपए दे सकता है.अपनी अवधि को 15 वर्ष से बढ़ा देने से आपको 10 गुना ज्यादा रिटर्न मिल सकते हैं.निवेशित राशि 54 लाख है परन्तु जमा राशी 10 करोड़ है.

मुझे यकीन है की आपको अब विश्वास हो गया होगा की क्यों कम्पौन्डिंग इतना शक्तिशाली है.पर ध्यान दें की 15% सीएजीआर का मतलब 15% औसत रिटर्न है न की 15% वार्षिक रिटर्न.किसी को एक वर्ष में 20%रिटर्न और अगले वर्ष -5% रिटर्न का अनुभव हो सकता है.समय अवधि के दौरान औसत 15% हो सकता है.लम्बे समय (10-15 + वर्ष) में इक्विटी फंड ने महंगाई और सभी अन्य एसेट श्रेणियों को पीछे छोड़ा है.

SIP निवेश के फायदे

तो मै निवेशकों को SIP के माध्यम से मुचुअल फंड में निवेश करने की सलाह दूंगा.SIP निवेश का सबसे बड़ा फायदा कम्पौन्डिंग है.SIP सिर्फ कम्पाउंडिंग का फायदा नही देती ,इसके अन्य फायदे भी हैं.

रुपए-लागत औसत

विभिन्न बाज़ार चक्रों के माध्यम से जब एक निश्चित राशि निर्धारित समय के लिए निवेश की जाती है तो कीमत कम होने पर ज्यादा इकाइयाँ मिलती हैं और कीमत ज्यादा होने पर कम इकाइयाँ मिलती है.यह लम्बे समय में निवेश की औसत लागत को कम करता है.

बाज़ार के उतर चढाव को प्रभावहीन करना

चूँकि म्युचुअल फंड इकाइयाँ नियमित रूप से SIP के माध्यम से खरीदी जाती हैं कम समय में होने वाले बाज़ार के उतर चढाव को प्रभावहीन कर देता है.साथ ही, यह सुनिश्चित करना आवश्यक है कि वे बहुत अधिक नियमित रूप से SIPके द्वारा निवेश नहीं कर रहे हैं.उदाहरण के लिए साप्ताहिक या हर पखवाड़े में.यदि किसी के पास साप्ताहिक या हर पखवाड़े के लिए SIP है तो वे अपने निवेश को बार बार देखेंगे. कम समय में होने वाले उतार चढाव उनके निवेश के निर्णय को प्रभावित कर सकते हैं जिसे मासिक SIP के द्वारा टाला जा सकता है.

अनुशासित निवेश

नियमित बचत में से निश्चित राशि का निवेश करके, आप खुद को एक निश्चित निवेश पैटर्न की आदत डाल रहे हैं.इससे आपको दीर्घकालिक वित्तीय जरूरतों के लिए कार्पस बनाने में मदद मिलेगी.निवेश न की गई राशि अक्सर उपभोग पर खर्च हो जाती है और निवेशकों के दीर्घकालिक लक्ष्यों से समझौता करना पड़ता है.

सरल और आसान मॉनिटर

नियमित मासिक निवेश के साथ ,निवेश को ट्रैक करना आसान और सुलभ होता है.इसके अलावा, एक बटन के क्लिक के साथ SIP निवेश बहुत आसान हो गए हैं.

लचीलापन

एक SIP को कभी भी बंद किया जा सकता है. SIP को रोका जा सकता है, या SIP अवधि में SIP राशि को किसी भी समय पर घटाया या बढाया जा सकता है

दीर्घकालिक लाभ

SIP लम्बे समय में रिटर्न देते हैं. यह जरूरी है किआप ऊँचे रिटर्न के लिए कम से कम 10 वर्ष के लिए निवेशित रहे. धैर्य सफलता की चाबी है. ऊँचे रिटर्न पाने के लिए लम्बे समय तक निवेशित रहे.

गाए स्पिएर ने कहा है की “लम्बे समय में कम्पौन्डिंग निवेशकों का सबसे अच्छा मित्र है ,तो इस तरफ जाने का क्या फायदा “.तो कम समय में अपने निवेश को न देखें. याद रखें की कम्पौन्डिंग लम्बे समय में काम करता है.

You can also read the article in English here.

0 Shares:
Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You May Also Like