क्या मुझे अपना घर का लोन पहले चुका देना चाहिए या म्युचुअल फंड में निवेश करना चाहिए?

कई विकल्प उपलब्ध होने पर निर्णय लेना कठिन हो सकता है.वित्तीय निर्णय लेना सबसे कठिन होता है.ऐसा युग जहाँ घर का लोन इतने सस्ते ब्याज दरों पर उपलब्ध है वहां कोई भी आसानी से घर बनाने या खरीदने के लिए लोन ले सकता है.

घर बनाना या खरीदना एक भावनात्मक पसंद है और यह शायद ही किसी के द्वारा प्रभावित हो सकती है.बढ़ते इक्विटी बाज़ार और घर के लोन की सस्ते ब्याज दर पर उपलब्धता के साथ किसी को घर खरीदने ,घर का लोन चुकाने या इक्विटी बाज़ार में निवेश करने को लेकर निर्णय लेने में कठिनाई हो सकती है.यदि किसी के पास अतिरिक्त धन है तो वे क्या करेंगे? म्युचुअल फंड में निवेश करेंगे,मौजूदा घर के लोन को चुकाएंगे या संपत्ति में निवेश करेंगे?

संपत्ति में निवेश बनाम अन्य निवेश उत्पादों में निवेश

घर में निवेश का मतलब है की एक अवसर लागत विश्लेषण किया जाना चाहिए.आप एक बड़ी राशी निवेश करेंगे साथ ही नियमित रूप से किश्त का भुगतान भी करेंगे.आपको इसकी लागत की तुलना निवेश उत्पादों में निवेश करने पर मिलने वाले रिटर्न से करना चाहिए.यदि इक्विटी में निवेश से मिलने वाले रिटर्न संपत्ति के रखरखाव और ब्याज की लागत और संपत्ति से मिलने वाले किराये से अधिक है.

घर के लोन को पहले चुकाना बनाम इक्विटी म्युचुअल फंड में निवेश

कर्मचारी को मिली बोनस की राशी घर के लोन को पहले चुका देने केलिए अच्छा अवसर है.इसका मतलब है की आपके लोन की अवधि 2-3 वर्ष कम हो सकती है.पर क्या यह एक व्यवहारिक विकल्प है.2,00,00 तक का ब्याज का भुगतान अधिनियम 24 के अंतर्गत टैक्स की कटौती के दायरे में आता है.म्युचुअल फंड में निवेश आपको लोन की अवधि को कम करने में मदद कर सकता है.इस पर ऐसे ही विश्वास न करें ,बल्कि इसके लिए एक उदाहरण देखें.

माना की 2014 में 75,00,000 का घर का लोन लिया गया.आज बाज़ार में ब्याज दर 9% है.किश्त 67,479 है और लोन 2033 में पूरा होगा.

परिदृश्य 1:आप जनवरी 2018 में 700000 रूपए के लोन के एक भाग का पूर्व भुगतान कर देते हैं.यह आपके लोन की अवधि को 3 वर्ष कर देगा. आप नवम्बर 2029 में कर्ज मुक्त हो जाएँगे.

परिदृश्य 2:आप जनवरी 2018 में 700000 रूपए इक्विटी म्युचुअल फंड निवेश करें.माना की आपको 12% की अच्छी ब्याज दर मिलती है.आप अपने लोन को दिसम्बर 2029 तक चुका देंगे.यहाँ ये माना गया है की निवेशित राशि बकाया राशि के बराबर होने पर आप लोन बंद कर देंगे.

परिदृश्य पूर्व भुगतान /निवेश लोन की अवधि
परिदृश्य 1
लोन का पूर्व भुगतान

नवम्बर 2030
परिदृश्य 2इक्विटी में 12% पर निवेश
दिसम्बर 2029

विचार करने के लिए अन्य कारक

आपका निर्णय पूर्ण रूप से संख्यओं पर निर्भर नहीं होना चाहिए.ऐसे बहुत से कारक हैं जो इस निर्णय को प्रभावित करते हैं.वे हैं:

भावनात्मक अवस्था

क्या कर्ज आपको परेशान कर रहा है? क्या कर्ज मुक्त होकर आप खुश होगे?तो सही होगा की आप लोन चुका दें.

जोखिम लेने की क्षमता

इक्विटी बाज़ार अस्थिर होते हैं और उनसे मिलने वाले रिटर्न में काफी उतार चढाव होता है, और नकारात्मक रिटर्न भी मिलते हैं.आपको इनके साथ धैर्य रखना होगा और कमसे कम 5 वर्ष के लिए निवेशित रहने का सुझाव दिया जाता है.

अन्य वित्तीय लक्ष्य

लोन की अवधि के पूरे होने के समय पर ही आपके अन्य वित्तीय लक्ष्य हैं तो लोन का पूर्व भुगतान करने से बेहतर होगा की आप उन लक्ष्यों में निवेश करें.

लिक्विडिटी

यदि आप आपकी लिक्विडिटी में सुधार करना चाहते हैं तो बेहतर होगा की लोन के पूर्व भुगतान की बजाय आप डेट म्युचुअल फंड में निवेश करें.यदि आप कम अवधि में लिक्विडिटी की अपेक्षा कर रहे हैं तो इक्विटी फंड सही विकल्प नहीं है.आप अपने घर के लोन को सुपर सेवर या स्मार्ट होम लोन जैसी किसी संरचना में ले जाने पर विचार कर सकते हैं जहां अतिरिक्त फंड को घर के लोन खाते के साथ रखा जा सके.यह घर के लोन पर ब्याज दर में कमी करेगा और साथ ही साथ आपको घर के लोन के ब्याज दर के सामान रिटर्न दर पर लिक्विडिटी भी देगा.यदि 5 वर्ष से कम समय में आपका कोई बड़ा लक्ष्य है तो आप डेट म्युचुअल फंड में अपनी राशि निवेश करना चाहेंगे.

उपरोक्त कारकों को ध्यान में रखने के बाद एक सूचित निर्णय लें.तो आप देख सकते है कि म्युचुअल फंड में निवेश के बजाय घर के लोन का पूर्व भुगतान करना या इसके विपरीत स्थिति सभी के लिए एक आदर्श निर्णय नहीं हो सकती.यह व्यक्तिगत परिस्थितियों पर निर्भर करता है और अलग अलग तरीके से इसका समाधान किया जाना चाहिए.

अपवार्डली के साथ म्युचुअल फंड में निवेश करें .हम Upwardly.in में हमेशा आपको सहायता करने के लिए तैयार हैं.

You can read this article in English here.

0 Shares:
Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You May Also Like
Read More

एचडीएफसी प्रूडेंस फंड को एचडीएफसी बैलेंस्ड एडवांटेज फंड में परिवर्तित कर दिया गया है

भारत की सबसे बड़ी और प्रचलित म्युचुअल फंड योजना,एचडीएफसी प्रूडेंस फंड विलय करने के लिए तैयार है और…